मंगलवार, 16 मार्च 2010

ख्वाब वो नहीं जो नींद में आते हा ख्वाब वो हे जो आपकी नींद उड़ा देते है।
ख्वाब तो सभी देखते है कुछ ख्वाब सच होते है और कुछ भूल जाते है । अगर आप सच्चे दिल से कोई चीज़ की ख्वाहिश करो तो कहते है की वो चीज़ खुद आप तक पहुचने के रास्ते तलाश कर लेती है, पर कई बार हम खुद नहीं समझ पाते की सच क्या है और झूट क्या हम बस ख्वाबो की झूटी दुनिया में ही जीते रहते है जहाँ हर चीज़ खुबसूरत होती है परन्तु ज़िन्दगी कोई ख्वाब नहीं । अक्सर जब हमारे साथ कुछ बुरा होता है तो हम सोचते है की ऐसा हमारे साथ ही क्यों हुआ पर जब हम खुश होते हाई तो कभी ये ख्याल नहीं आता। इंसान बहुत खुदगर्ज़ होता है हमेशा अपने बारे में ही सोचता है पर क्या ऐसा नहीं हो सकता की हम केवल अपने बारे में ना सोचकर सब के बारे में सोचे तो ये ज़िन्दगी सचमुच एक खुबसूरत ख्वाब बन जायेगी।
एक टिप्पणी भेजें