बुधवार, 29 सितंबर 2010


तू हिन्दू बनेगा न मुसलमान बनेगा

इन्सान की औलाद हे इंसान बनेगा

मालिक ने हर इंसान को इंसान बनाया
हमने उसे हिन्दू या मुसलमान बानया
कुदरत ने तो बक्शी थी हमे एक ही दुनिया
हमने कही भारत कही इरान बनाया ।
"जियो और जीने दो"
"मज़हब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना "
एक टिप्पणी भेजें